Article

हिन्दी साहित्य में नारी विमर्श तथा इसकी महत्ता | Original Article

Bala Devi* in Journal of Advances and Scholarly Researches in Allied Education | Multidisciplinary Academic Research

ABSTRACT:

हिन्दी कथा साहित्य में स्त्री विमर्श जिसमें नारी जीवन की अनेक समस्याएं देखने को मिलता है। हिन्दी साहित्य में छायावाद काल से स्त्री-विमर्श का जन्म माना जाता है। महादेवी वर्मा की श्रृंखला की कड़िया नारी सशक्तिकरण का सुन्दर उदाहरण है।

 

2018@ IGNITED MINDS JOURNALS, ALL RIGHTS RESERVED, This site is Powered by i-Publisher

Visits: Stats